गुर्जरो से जब गाने बजाने वालो का पाला पड़ा


veergujar
दोस्तों गुर्जर कौम हिन्दुस्तान, पाकिस्तान, अफगानिस्तान आदि देशों में अच्छी खासी आबादी में है। इसमें हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी धर्मो के अनुयायी है। सभी देशों में इनकी आर्थिक स्थिति भिन्न-भिन्न है लेकिन सभी में कुछ बातों की समानता है और वो ये है कि ये गाय भैंस आदि दुधारू जानवर रखते है। और अपने भोजन में दूध, दही, घी को शामिल करते है। शारीरिक रूप से हष्ट पुष्ट होते हैं। स्वभाव से आक्रामक होते है। किसी भी परिस्थिति का सामना करने से कतराते नहीं है। इसी कारण ये देखा जा सकता है कि समाज के अन्य वर्ग इनसे लड़ने-झगड़ने से बचते नजर आते है।

ऐसा ही एक काल्पनिक किस्सा पाकिस्तान के सकुरदू जिले का इस विडियों में दिखाया गया है जिसमें कुछ गाने बजाने वाले सकुरदू के गुर्जरों से शादी के मौके पर गाने बजाने के लिए एडवांस ले लेते है परन्तु शादी के अवसर पर कार्यक्रम करने के लिए नहीं पहुच पाते है तो किस तरह पैसे वापिस देने और जान बचाने के लिए चिंतित है। इस विडियों में हस्यास्पद रूप में दिखाया गया हैं। आप भी इस विडियो को देखिये और आनन्द लिजिये।
गुर्जरो से जब गाने बजाने वालो का पाला पड़ा
दोस्तो आप भी अपनी राय इस विडियों के बारे कमेंट बॅाक्स में दे। साथ ही इस पेज को शेयर करे, हमारे फेसबुक पेज को लाइक करे और यू.टयूब चैनल को सब्सक्राइब करे ताकि आप तक इस वेबसाइट की गुर्जर समाज की ताजा तरीन खबरें पहुच सके।

Comments

Post a Comment

Thank You.